शनिवार, अक्तूबर 01, 2011

अग़ज़ल -(न चाहो ताज, सबके सिर ताज नहीं होता)


        
                            * * * * *

1 टिप्पणी:

रचना दीक्षित ने कहा…

लाजवाब शेर. बधाई.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...